बेरोजगारी के दुष्परिणाम

इस लेख में हम बेरोजगारी के दुष्परिणाम (bad effect of unemployment) पर सरल और सहज चर्चा करेंगे, एवं इसके विभिन्न महत्वपूर्ण पहलुओं को समझने का प्रयास करेंगे,

तो अच्छी तरह से समझने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़ें और साथ ही बेरोजगारी से संबंधित अन्य लेखों को भी पढ़ें, सबका लिंक नीचे दिया हुआ है;

बेरोजगारी के दुष्परिणाम

| बेरोज़गारी क्या है?

वे सभी व्यक्ति, जो किसी ऐसे कार्य में संलग्न है जिससे धन का उपार्जन होता हो, तो ऐसे व्यक्तियों को रोजगार प्राप्त या नियोजित या कार्यरत (employed) कहते हैं;

लेकिन कभी-कभी व्यक्ति धन उपार्जन तो करना चाहता है और वो काम की तलाश भी करता है लेकिन उसे काम ही नहीं मिलता है, ऐसे व्यक्तियों को बेरोजगार कहा जाता है और इस स्थिति को बेरोज़गारी कहा जाता है।

बेरोज़गारी के बने रहने के कई कारण होते हैं, जैसे कि

  • धीमी आर्थिक संवृद्धि
  • जनसँख्या में वृद्धि
  • दोषपूर्ण शिक्षा व्यवस्था
  • औद्योगिकरण (Industrialization)
  • ग्रामीण-शहरी प्रवासन, इत्यादि।

बेशक इन सारी स्थितियों से निपटा जा सकता है लेकिन अगर किसी कारणवश बेरोज़गारी को खत्म नहीं किया जाता है तो फिर उसके दुष्परिणाम बड़े ही घातक हो सकते हैं, भारत जैसे विकासशील देशों में कमोबेश इसे देखा भी जा सकता है।

| बेरोजगारी के दुष्परिणाम

रोजगार मनुष्य के जीवन-यापन के बुनयादी आधार है।  यह मनुष्य की भूख एवं प्यास मिटाने की, प्राथमिक एवं आधारभूत आवश्यकता की पूर्ति की एक ससक्त साधन है। किन्तु बेरोजगार व्यक्ति को अनेकानेक संकटों का सामना करना पड़ता है।

संकट के दिनों में बेरोजगार व्यक्ति स्वयं अपने परिवार के लिए तो बोझ बनता ही है, समाज के लिए समुदाय के लिए और यहाँ तक की राष्ट्र के लिए भी बोझ बन जाता है।

अपना जीविकोपार्जन एवं आश्रितों को पोषण प्रदान के लिए वह अनेकानेक कुकर्म करने को तैयार हो जाता है। उसमें विपथगमनात्मक प्रवृतियाँ जागृत हो जाती है। विचलनकारी व्यवहार फिर विघटनकारी व्यवहार करने के लिए बाध्य करती है। इससे अंततः सामाजिक संरचना अस्त-व्यस्त हो जाती है।

बेरोज़गार व्यक्ति अनुशासनहीन, चरित्रहीन एवं आदर्शशून्य व्यवहार करने लगता है और दरिद्रता व दुर्दशा से पीड़ित, भूख का मारा हुआ, कर्ज से दबा हुआ, कुत्ते और बिल्लियों की तरह जीवन बिताने से उबकर चोरी, डकैती, तस्करी, हिंसा और कई प्रकार के आपराधिक कार्यों को करने की और अभिमुख हो जाता है।

वेश्यावृति, भिक्षावृति, आत्महत्या आदि अपराधों को खुलकर करने लगता है । इस प्रकार बेरोजगारी से सारा समाज, सारा समुदाय, सम्पूर्ण राष्ट्र प्रभावित होता है।

बेरोजगारी से कई प्रकार की सामाजिक समस्याओं का प्रादुर्भाव होता है, देश में आर्थिक समस्या उठ खड़ी होती है। लोगों का स्वास्थ्य क्षतिग्रस्त हो जाता है, मस्तिष्क बेकार हो जाता है, उसकी आकांक्षाए मर जाती है, सम्मान और उत्तरदायित्व की भावना मर जाती है, साहस और इच्छा-शक्ति कमजोर हो जाती है, कौशल नष्ट हो जाता है और कर्ज में इतना डूब जाता है कि फिर वैयक्तिक, पारिवारिक, सामुदायिक एवं राष्ट्रीय उन्नति की भावनाएँ नष्ट हो जाती है।

बेरोजगारी के दुष्परिणाम यहाँ निम्नलिखित बिन्दुओं में प्रस्तुत है

| वैयक्तिक विघटन (Personal dissolution)

बेरोजगारी किसी युवा व्यक्ति के लिए, रोजी-रोटी से आहत व्यक्तियों के लिए, आंशिक रोजगार में संलग्न व्यक्तियों के लिए और अल्प वैतनिक व्यक्तियों के लिए बहुत ही खतरनाक है।

उसमें बेरोजगार व्यक्तियों की सर्वाधिक संख्या पाई गयी है। अनपढ़ बेरोजगार व्यक्तियों की भांति पढ़े-लिखे बेरोजगार व्यक्तियों की चोरी, डकैती, तस्करी, हिंसा, जुआ, मद्यपान आदि में प्रमुख भूमिका है।  बेरोजगारी इस प्रकार वैयक्तिक विघटन का मार्ग प्रशस्त करते है।

| पारिवारिक विघटन (Family breakdown)

बेरोजगारी से आहत व्यक्ति का वैयक्तिक विघटन तो होता ही है साथ ही यह पारिवारिक विघटन का भी उदगम स्त्रोत है। पैसे की तंगी, पग-पग पर परेशानी, चिंता और कलह को जन्म देती है।

परिवार के सदस्यों को जब भरपेट भोजन नहीं मिलता, तन ढकने के लिए जब परिधान व वस्त्र प्राप्त होता, रहने के लिए घर नसीब नहीं होता और जब जीवन की अन्य सुविधाओं से वंचित रहना पड़ता है,

ऐसे में पति-पत्नी के बिच सम्बन्ध-विच्छेद व तलाक भी हो जाता है। बच्चे अनाथ हो जाते है। वे गलियों में कबाड़ी का काम करने लगते है।

| सामाजिक विघटन (Social disruption)

बेरोजगारी जो व्यैक्तिक विघटन एवं पारिवारिक विघटन की जन्मदात्री सामाजिक विघटन का भी आधारशिला है। बेरोजगारी के परिणामस्वरूप बेरोजगार व्यक्तियों की मनोवृति में तीखापन आ जाता है, उनका सामाजिक जीवन रिक्त होने लगता है। सामुदायिक भावना नष्ट होने लगता है।

यह व्यक्तिवादिता अनेक प्रकार की समस्याओं को जन्म देकर अपराध की भी अभिवृद्धि करती है जो की सामाजिक विघटन का प्रत्यक्ष रूप है।

| सामुदायिक विघटन Community disintegration)

सामुदायिक संगठन की आधारशिला है, “सामुदायिक भावना” यानी कि ‘हम की भावना’।  सामुदायिक विघटन की शुरुआत उसी समय हो जाता है जब मनुष्य सामुदायिक सहयोग और एकमत से अपना हाथ खींच लेता है।

वह सामुदायिक जीवन में, सामुदायिक हित में भाग लेना बंद कर देता है। और तनावग्रस्त रहने लगता है तथा कभी-कभी समाज में क्रांति का बीज बोने की कोशिश करती है।

| आतंकवाद को बढ़ावा (Promoting terrorism)

बेरोजगारी आतंकवाद को बढ़ावा देती है। बेरोजगार व्यक्ति अपनी वर्तमान स्थिति के लिए समाज के प्रति, सरकार के प्रति क्रोधित होते है। उनकी सोच नकारात्मक हो जाती है वे सोचते है की यदि यह समाज उनकी उपयुक्त रोजगार पाने की आकांक्षाओं को पूरा नहीं कर सकता है तो इसे बर्बाद ही कर देना चाहिए। इससे वे राज्य के विरुद्ध संगठित हिंसा करना चाहते है।

पंजाब और असम में आतंकवाद को बढ़ाने में युवा बेरोजगारी की अहम् भूमिका रही है। दोनों राज्यों में युवा बेरोजगारों की बड़ी संख्या में होने की समान समस्या रही है।

इस प्रकार स्पष्ट होता है कि बेरोजगारी के परिणाम बड़े घातक सिद्ध होते है। बेरोजगार व्यक्ति का जीवन विघटित होता है, परिवार और समाज को भी यह विघटित कर देता है।

| राष्ट्र का नुकसान

बेरोज़गार व्यक्ति अपने लिए तो कुछ नहीं ही करता है साथ ही राष्ट्र के विकास में भी वो अपना योगदान नहीं दे पाता है, और ऐसे लोगों की संख्या जब बढ़ने लगती है तो फिर इसका बहुत बड़ा प्रभाव अर्थव्यवस्था की वृद्धि पर भी पड़ता है।

क्योंकि वे खुद कुछ नहीं कर रहे होते हैं इसीलिए सरकार को उसके लिए कुछ करना पड़ता है और ऐसे में सरकार उन्ही पैसों को खर्च करती है जो कि अन्य लोगों ने टैक्स के रूप में सरकार के पास जमा कराये होते हैं; जबकि उन पैसों का उपयोग जीवन-शैली को और बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता था।

मानव विकास सूचकांक 2020 के अनुसार देखें तो 189 देशों में भारत का स्थान 131वां है, जो कि भारत की अच्छी स्थिति तो बिल्कुल भी नहीं बता रहा है। ऐसे में अगर किसी तरह से बेरोज़गारी पर नियंत्रण पा लिया जाये तो जरूर हमें अगली बार मानव विकास सूचकांक में एक सुधरा हुआ और सम्मानजनक रैंक मिलेगा।

तो कुल मिलाकर यही है बेरोज़गारी के दुष्परिणाम; उम्मीद है आपको समझ में आया होगा। नीचे बेरोज़गारी से संबंधित कुछ अन्य लेखों का लिंक दिया जा रहा है, अच्छी समझ के लिए उसे भी पढ़ें;

🔴🔴🔴

| बेरोज़गारी से संबंधित महत्वपूर्ण लेख

बेरोजगारी क्या है
शिक्षित बेरोजगारी
बेरोजगारी के प्रकार
बेरोजगारी के कारण
बेरोज़गारी निवारण के उपाय
जनसंख्या समस्या, उसका प्रभाव एवं समाधान

डाउनलोड‌‌‌‌ बेरोजगारी के दुष्परिणाम Pdf

पसंद आया तो शेयर कीजिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *