लिपस्टिक लगाने की शुरुआत कब से हुई? । History of Lipstick

लिपस्टिक लगाने का चलन
लिपस्टिक लगाने की शुरुआत कब से हुई

इस लेख में हम एक ऐसे टॉपिक पर बात करेंगे, जिसपर लोग ज्यादा बात भी नहीं करते- जी हाँ लिपस्टिक

चीन और सिंधु घाटी सभ्यताओं से होंठ रंगने वाले चीजों के अवशेष मिले है इससे आप पता कर सकते है कि आज से हजारों साल पहले भी स्त्रियाँ अपने सौन्दर्य के प्रति कितनी गंभीर थी।

पता है एक राज की बात बताऊँ, मुझे तो कभी-कभी लगता रहता है कि कहीं इन्ही स्त्रियों के कारण ये सभ्यताएं खत्म न हुई हो…………………….जोक सपाट …………..। वैसे आपको क्या लगता

खैर ऐसा माना जाता है कि 8वीं-9वीं शताब्दी में एक अरबी हकीम जर्राह अबू अल कासिम अल जहराबी ने होंठों को सजाने के लिए लिपस्टिक जैसी ही कोई चीज़ बनायी थी। (क्यूँ किया तुमने ऐसा, आखिर क्यूँ)

मुझे यक़ीन है इसके बाद तो वो जरूर हकीम से हाकिम बन गया होगा। 

समय आगे बढ़ता गया पर इसे उस तरह से कभी भी सामाजिक स्वीकृति नहीं मिली। मिलता भी कैसे, यूरोप में लिपस्टिक लगाना अच्छा नहीं समझा जाता था।

इसपे कई तरह की पाबंदियाँ लगी हुई थी। क्योंकि कई लोगों को लगता था की ये औरत डायन है शायद किसी का खून पी के आयी है।

हाँ वो बात अलग है कि कई औरतों को देखकर तो ये आज भी लगता रहता है……………….।

जो भी हो इस सबके बावजूद भी 16वीं सदीं में इंग्लैंड की रानी एलिज़ाबेथ अपने होंठों को लाल रंग से रंगती थी।

ये लाल रंग मोम और फूलों के रंगों से मिलकर बनाया जाता था। इससे हुआ ये कि ये धीरे-धीरे चलन में आना शुरू हो गया।

अब रानी लगाए और वो चलन में न आए ऐसा भला हो सकता है क्या!

19वीं सदीं के अंत में फ्रांसीसी कंपनी गेर्ले ने लिपस्टिक का उत्पादन शुरू किया। और धीरे-धीरे उसकी मांग बढ़ती ही गयी।

फिर आयी  हॉलीवुड की अभिनेत्री मार्लिन मुनरों और एलिज़ाबेथ टैलर उसने लिपस्टिक क्या लगाई लगभग पूरी दुनिया में ही लिपस्टिक का चलन शुरू हो गया

ये प्रथा आज भी जारी है। 

…………..

पसंद आया तो शेयर कीजिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *