प्रेरक लघु कहानियां । Short motivational story

प्रेरक लघु कहानियां हिन्दी में

इस लेख में हम कुछ बेहतरीन प्रेरक लघु कहानियां पढ़ेंगे। उम्मीद है आपको अच्छा लगेगा।

प्रेरक लघु कहानियां

दृढ़ निश्चय

इंग्लैंड में रॉबर्ट जेम्स नाम का एक व्यक्ति रहता था वो घोड़ों को प्रशिक्षण देने का काम करता थ

काम के सिलसिले में वो अक्सर घर से बाहर रहता था । जब रॉबर्ट घर पे नहीं होता था तब उसका बेटा मोंटी रोबर्ट्स घर संभालता था ।

घर संभालने के चक्कर में उसे कई बार स्कूल भी छोड़ना पड़ता था । जिससे उसकी पढ़ाई में निरंतर व्यवधान पड़ता था ।

एक बार की बात है उसके टीचर ने कक्षा में सभी बच्चों को कहा कि तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो या फिर तुम्हारे सपने क्या है, उसपर एक लेख लिखो ।

टीचर ने फिर कहा, याद रखना तुम्हारे लेख वास्तविक होनी चाहिए । सबको A से लेकर F तक ग्रेड दिया जाएगा और जिसको F ग्रेड आया उसे फ़ेल माना जाएगा ।

मोंटी ने अपने लेख में लिखा कि मैं बड़ा होकर घोड़े के तबेले का मालिक बनना चाहता हूँ ताकि मेरे पिता को काम के लिए यहाँ-वहाँ भटकना न पड़े ।

मोंटी ने तबेले का स्केच भी बनया और अपनी योजनाएँ भी लिखकर टीचर के पास दिखाने गया |

टीचर ने उसे F ग्रेड दिया और डांटते हुए कहा कि तुम पागल हो गए हो क्या ?

न तुम्हारे पास पैसे है और न ही साधन ! ये लेख तो वास्तविकता से कोसों दूर है।

तुम ऐसा कर ही नहीं सकते हो । टीचर ने हिदायत देते हुए कहा कि अगर तुम्हें अपना ग्रेड सुधारना है तो कल दूसरा लेख लिख कर आना ।

मोंटी काफी दुखी मन से सारी बातें अपने पिता को बताया और पूछा कि मुझे क्या करना चाहिए । पिता ने कहा कि तुम जो बनना चाहते हो वही काम करो ।

तुम जो चाहो बन सकते हो । फिर क्या था मोंटी ने फिर से वही लेख लिखा और टीचर को दिखाया और कहा; आप मुझे जो भी ग्रेडिंग दीजिये लेकिन मैं बड़ा होकर बनूँगा तो घोड़ों के तबेलों का मालिक ही ।

उसने दृढ़ निश्चय किया और अपने सपने पूरे किए । आज मोंटी रोबर्ट्स के पास 200 एकड़ में फैला घोड़ों का तबेला है और

इंग्लैंड के सबसे अच्छे तबेलों में से एक है । आज यहाँ देश भर से घोड़े प्रशिक्षण के लिए आते है । मोंटी ने आज भी वो लेख आज भी अपने पास रखा है

प्रेरक लघु कहानियां

तजुर्बा

तजुर्बा किस प्रकार हमारी गलतियों को कम कर देता है और ये हमे विशिष्ट लोगों की श्रेणीयों में लाकर खड़ा कर देता है ।

इसे इस लघु-कथा के माध्यम से समझा जा सकता है ।

एक बार की बात है एक बहुत बड़ा समुद्री जहाज पर्यटकों को लेकर एक सफ़र पर निकला था ।

कुछ समुद्री मील यात्रा करने के बाद अचानक जहाज का इंजन खराब हो गया । कैप्टन और वहाँ मौजूद इंजीनियरों ने इंजन को ठीक करने की काफी कोशिश की पर इंजन ठीक ही नहीं हो रहा था।

तब कैप्टन ने बंदरगाह कार्यालय से संपर्क किया । बंदरगाह से कुछ इंजीनियरों को हेलिकॉप्टर से भेजा गया ।

वे लोग आते ही इंजन के मरम्मत में जुट गये । काफी समय हो गया, उन लोगों ने भी काफी मशक्कत की पर फिर भी इंजन ठीक नहीं हुआ ।

जहाज के यात्रियों का सब्र का बांध टूटा जा रहा था वे परेशान होकर बार-बार कैप्टन से आकर पूछ रहे थे कि ठीक हुआ कि नहीं ?

अब कैप्टन सोच में पड़ गया कि अब क्या करें ? ये अब कैसे ठीक होगा?

तभी यात्रियों में से किसी ने कहा की, ”एक अमुक इंजीनियर है अगर उसे बुलाया जाय तो शायद वो ठीक कर सकता है।”

आखिरकार थक-हारकर कैप्टन ने उस इंजीनियर को बुलाने को सोचा । लाने के लिए हेलिकॉप्टर भेजा गया ।

कुछ देर बाद वो इंजीनियर आया, वो अपने हाथ में एक छोटा सा टूल बॉक्स लिए इंजन रूम की तरफ बढ़ा । बाकी के इंजीनियर, नये इंजीनियर के पीछे-पीछे गये ।

वो सब देखना चाहते थे की नया इंजीनियर ऐसा क्या करेंगे जो हमलोगों ने नहीं किया | खैर नया इंजीनियर चलते-चलते इंजन के पास एक जगह रुका ।

उसने अपने टूल से एक जगह ठक-ठक किया फिर एक स्क्रू टाइट किया और कैप्टन को कहा की इंजन को स्टार्ट करें ।

कैप्टन ने इंजन स्टार्ट किया और वो स्टार्ट हो गया । कैप्टन के खुशी का ठिकाना नहीं रहा और साथ ही वह ये जानने के लिए उत्सुक भी हो रहा था कि नया इंजीनियर ने आखिर कौन सा स्क्रू टाइट किया !

कैप्टन उस इंजीनियर से बड़ा प्रभावित हुआ और पूछा, आपका बिल क्या है? इंजीनियर ने कहा, 10,000 रूपये ।

कैप्टन आश्चर्यचकित होकर बोला- एक स्क्रू टाइट करने के 10,000 रूपये ?

इंजीनियर मुस्कुराते हुए कहा, नहीं भाई, स्क्रू टाइट करने का बिल केवल 100 रूपये है। बाकी 9,900 रूपये यह जानने का है कि स्क्रू कहा टाइट करना है |

कैप्टन जवाब सुनकर सन्न रह गया और उसे उसके रूपये दे दिये । इसे कहते हैं- तजुर्बा।

प्रेरक लघु कहानियां

ईमानदारी

एक राजा था । उसका बहुत बड़ा साम्राज्य था । राजा के दस बेटे थे । जब राजा बूढ़ा होने लगा, तब उसने अपने सभी बेटों को बुलाया और कहा –

देखो बच्चों, अब मैं बूढ़ा हो चला हूँ और चाहता हूँ कि तुममे से किसी एक को अपना उतराधिकारी बना दूँ ।

यह सुनकर सभी बेटे खुश हो गए और खुद को एक दूसरे से बेहतर साबित करने की कोशिश करने लगे ।

राजा ने कहा कि मैं तुम सबको एक काम देता हूँ और जो भी इस काम को सबसे बढ़िया तरीके से करेगा वही इस राज्य का नया राजा बनाया जाएगा ।  

राजा ने सभी बेटों को बीज का एक-एक टुकड़ा दिया और कहा, तुम सबको इस बीज को लेकर एक साल के लिए जंगल में जाना है ।

वहाँ इसे एक गमले मे रोपना है और देखभाल करनी है । एक साल के बाद मैं तुमसे मिलुंगा । जिसका पेड़ सबसे बड़ा होगा, वही इस राज्य का नया राजा बनेगा ।         

उस राजा के सबसे छोटे बेटे का नाम नकुल था । नकुल भी इन सारी बातों को बहुत ध्यान से सुन रहा था ।

राजा के सभी बेटों ने बीज लिया और अलग-अलग दिशाओं में जंगल कि ओर निकल गए। नकुल ने भी जंगल पहुँच कर एक गमला लिया और उस बीज को रोप दिया ।

बहुत अच्छी तरह उस बीज को रोपने, उसमें पानी देने या खाद देने पर भी उसमें छोटा सा पौधा होता और कुछ समय बाद वह पौधा मर जाता ।

दूसरी ओर, राजा के दूसरे बेटों ने जब बीज को रोप कर उसमें खाद दिया तो बीज से पौधा और पौधे से पेड़ बनने लगा ।

साल भर बाद सभी बेटे फैसले के दिन जमा हुए एक से बढ़कर एक सुंदर और मजबूत पेड़ अलग-अलग गमलों में नजर आ रहे थे

लेकिन नकुल का गमला खाली था । सभी दरबारी नकुल के गमले की तरफ देख कर हंस रहे थे ।

दरबारी अन्य सभी गमलों की तारीफ़ों के पूल बांध रहे थे । इसी बीच राजा आया, उसने सभी गमलों को देखा और मुस्कुराने लगा ।

नकुल ने राजा को अपनी ओर आते देखा तो वह अपना गमला शर्म के मारे पीछे छुपाने लगा ।

राजा ने उसके गमले को देखा और सभी दरबारियों की ओर मुड़ कर बोला – सुनो साथियों, आपका नया राजा और मेरा उतराधिकारी चुन लिया गया है ।

सभी बेटों की धड़कने तेज हो गयी । राजा ने कहा – आज से आपके नए राजा नकुल होंगे ।

राजा के दूसरे सभी बेटे और दरबारी यह सुनकर स्तब्ध रह गए ।

राजा ने कहा – मैंने अपने सभी बेटों को वही बीज दिया था जो बंजर था और उसमें कभी कोई पौधा या पेड़ नहीं उग सकता था ।

मेरे अन्य बेटों ने मुझे धोखा देने के लिए उस बीज को बदल दिया लेकिन नकुल अपने काम के प्रति ईमानदार था और

वह उसी वास्तविकता और ईमानदारी के साथ मेरे सामने आया, जो उसने हासिल किया।

………………

प्रेरक लघु कहानियां – eBook डाउन लोड करें

मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो करें, लिंक सबसे नीचे फूटर में है।

कमेंट जरूर करें और subscribe कर लें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *