प्याज़ काटने से आँसू क्यूँ आते हैं और इससे कैसे बचे ।

प्याज़ काटने पर आँखों से आँसू क्यूँ आते हैं?
प्याज़ काटने पर आँखों से आँसू क्यूँ आते है और उससे कैसे बचे

प्याज़ बड़ी बेबफ़ा होती है, रुला ही देती है। पर इसको बेबफ़ा बनाता कौन है, कौन है इसके पीछे जिम्मेदार, आखिर प्याज़ काटने पर आँखों से आँसू क्यूँ आते है आइये जानते है।

प्याज को सल्फर से अपने विशिष्ट, तीखे स्वाद प्राप्त होते हैं। यहाँ एक बात बता दूँ कि सड़े हुए अंडे की बदबूदार गंध के पीछे भी यही रसायन होता है। लेकिन प्याज़ में  सिर्फ सल्फर ही नहीं है जो रुलाने के जिम्मेदार है। 

प्याज में सिंथेज़ (synthase) नामक एक एंजाइम भी होता है। जब प्याज को काटा जाता हैं, तो सिंथेज़, सल्फर के साथ प्रतिक्रिया करता है और एक रासायनिक यौगिक बनाता है  जिसे syn-Propanethial S-oxide कहा जाता है।

यह यौगिक अस्थिर होता है और एक गैस बनाता है जो कि टीयर ग्लैंड्स जिसे लैक्रिअम ग्लैंड्स (ग्रंथि) भी कहा जाता है, को ट्रिगर करता है – जिससे वह ग्रंथि आंसू पैदा करने लगती है।

वैसे देखा जाये तो ये तीखी गंध एक प्रकार की रक्षा व्यवस्था है। जिसे प्रकृति ने प्याज़ और लहसुन जैसी वनस्पतियों को जानवरों आदि से बचाने के लिए दिया है। 

आँखों से आने वाले आँसू से से ऐसे बचे

1.प्याज़ काटते समय चाकू को गरम कर लीजिये और तब प्याज़ काटिये आँसू नहीं आएंगे। वैसे एक बात बता दूँ कभी-कभी ये नहीं भी काम करती है तो मुझे दोष मत देने लग जाना।

2. प्याज़ को पानी में थोड़ी देर तक भींगने देना इससे उसके रसायन की तीव्रता थोड़ी कम हो जाती है।

3. प्याज़ को थोड़ी देर के लिए फ्रिज में रख देना, जब वो थोड़ा ठंडा हो जाये तो उसकी तीव्रता काफी हद तक कम हो जाती है। ये काम करता है, मैंने इसे आजमाया है ।

4. प्याज़ को किसी और को काटने के लिए कह देना, ये भी काम करता है। इससे आपको बिलकुल भी आँसू नहीं आएंगे।

5. हेलमेट पहन कर काटना या फिर आँख को पूरी तरह से कवर करने वाला चश्मा पहन कर भी इससे बचा जा सकता है। ये तो हमेशा काम करता है।

प्याज़े कितनी भी बड़ी बेबफा क्यों न हो पर वो पत्थर दिल को भी रुला देता है इसीलिए इसकी रेस्पेक्ट करो। और जाओ प्याज़ काटो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *