सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल

मिसाइलें कई प्रकार के होते हैं, जैसे कि हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल, पानी से सतह और हवा में मार करने वाली मिसाइल एवं सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल आदि।

इस लेख में हम सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (Surface to air missile) पर चर्चा करेंगे एवं इसके विभिन्न खूबियों के बारे में जानेंगे;

सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल

सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल

सतह से हवा में मार करने वाले मिसाइलें समान्यतः चार प्रकार के होते हैं।

  1. छोटी दूरी के सतह-से-हवा में मार करने वाली मिसाइल
  2. माध्यम दूरी के सतह-से-हवा में मार करने वाली मिसाइल
  3. एंटी-बैलिस्टिक (Anti-Ballistic) मिसाइल
  4. Manpads (Man-portable air-defense systems)

आइये जानते है भारत के पास इन सभी श्रेणियों के कौन-कौन से मिसाइल है ।

छोटी दूरी के सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल

1. त्रिशूल

  • निर्माता – आयुध कारख़ाना बोर्ड और भारत डायनामिक्स लिमिटेड
  • वजन – 130 किलोग्राम
  • लंबाई – 3.1 मीटर
  • परिचालन सीमा – 9 किलोमीटर तक
  • स्पीड – मैक 2 (लगभग 2400 किलोमीटर प्रति घंटा)
  • क्षमता – 15 किलोग्राम तक वारहेड ले जाने में सक्षम

2. तुंगुस्का

(ये खासियते तुंगुस्का 9एम311 संस्करण के हैं )

  • निर्माता – रूस
  • वजन – 57 KG
  • लंबाई – 2.56 मीटर
  • परिचालन सीमा – 8 से 10 किलोमीटर
  • स्पीड – 3240 किलोमीटर प्रति घंटा
  • क्षमता – 9 किलोग्राम तक वारहेड ले जाने में सक्षम

3. बराक-1

  • निर्माता – इस्राइल एरोस्पेस इंडस्ट्री और राफेल एडवांस डीफेंस सिस्टम (इस्राइल)
  • वजन – 98 किलोग्राम
  • लंबाई – 2.1 मीटर
  • व्यास – 17 सेंटीमीटर
  • परिचालन क्षमता – 12 किलोमीटर तक
  • स्पीड – मैक 2.1 (लगभग 2600 किलोमीटर प्रति घंटा)
  • क्षमता – 22 किलोग्राम तक वारहेड ले जाने में सक्षम

इसे खासतौर से जहाज से भी छोड़ने के लिए बनाया गया है। और सीधे 5.5 किलोमीटर तक ऊपर जा सकता है।

4. स्पाइडर

ये छोटी दूरी और मध्यम दूरी (दोनों) संस्करणों में आता है।

– निर्माता – राफेल एडवांस डीफेंस सिस्टम (इस्राइल)

संस्करण – स्पाइडर (छोटी दूरी के लिए) Python-5
स्पाइडर (मध्यम दूरी के लिए) Derby

वजन – 105 किलोग्राम (Python-5)
            118 किलोग्राम (Derby)

लंबाई – 3.1 मीटर (Python-5)
3.62 मीटर (Derby)

व्यास – 16 सेंटीमीटर (दोनों का )

परिचालन सीमा – 20 किलोमीटर (Python-5)
                         50 किलोमीटर (Derby)

क्षमता – 11 किलोग्राम (Python-5)
             23किलोग्राम (Derby)

ऊंचाई क्षमता – 9 किलोमीटर (Python-5)
                      16 किलोमीटर (Derby)

स्पीड – मैक 4  (लगभग 4800 किलोमीटर प्रति घंटा

इसके आलवे भी कुछ सतह से हवा में छोटी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें है जैसे कि – SA-8 Gecko, SA-3 Goa, SA-9 Gaskin, SA-2 Guideline, SA-13 Gopher, Seacat, Tigercat, Maitri.

मध्यम दूरी के सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें

1. आकाश

  • डिज़ाइनर – DRDO (भारत)
  • निर्माता – आयुध कारख़ाना बोर्ड, भारत डायनामिक्स और भारत इलेक्ट्रोनिक्स
  • वजन – 720 किलोग्राम
  • लंबाई – 5.78 मीटर
  • व्यास – 14 इंच
  • क्षमता – 60 किलोग्राम तक उच्च विस्फोटक वारहेड ले जाने में सक्षम
  • परिचालन सीमा – 30 किलोमीटर तक
  • स्पीड – 2.5 मैक (लगभग 3000 किलोमीटर प्रति घंटा)
  • रडार – राजेंद्र रडार

2. बराक 8

  • डिज़ाइनर – इस्राइल एरोस्पेस इंडस्ट्री(इस्राइल) और DRDO (भारत)
  • निर्माता – राफेल एडवांस डीफेंस सिस्टम (इस्राइल) और भारत इलेक्ट्रोनिक्स
  • वजन – 275 किलोग्राम
  • लंबाई – 4.5 मीटर
  • व्यास – 0.54 मीटर
  • परिचालन सीमा – 100 किलोमीटर तक
  • स्पीड – मैक 2 (लगभग 2400 किलोमीटर प्रति घंटा )

इसका एक लंबी दूरी तक मार करने वाला संस्करण भी है जिसे बराक-8ER कहा जाता है, इसकी लंबाई थोड़ी बड़ी है और ये 150 किलोमीटर तक मार कर सकता है।

कुछ और भी मध्यम दूरी के सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें है लेकिन वे इतने चर्चित नहीं है । ये है – SA-5 Gammon, SA-6 Gainful, SA-11 Gadfly, SA-17 Grizzly .

Anti- Ballistic Missile

भारतीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा कार्यक्रम(Indian Ballistic Missile Defence Programme)

 बैलिस्टिक मिसाइल हमलों से बचाने के लिए बहुस्तरीय बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली विकसित करने और तैनात करने की एक पहल है। मुख्य रूप से पाकिस्तान से बैलिस्टिक मिसाइल के खतरे को ध्यान में रखकर इसे विकसित किया गया ।

यह एक दो-स्तरीय प्रणाली है जिसमें दो भूमि और समुद्र-आधारित इंटरसेप्टर मिसाइल शामिल हैं, अर्थात् पृथ्वी वायु रक्षा(Prithvi Air Defence) (PAD) मिसाइल उच्च ऊंचाई वाले अवरोधन, और Advanced Air Defence (AAD) कम ऊंचाई वाले अवरोधन के लिए मिसाइल। दो स्तरों वाली ये मिसाइल सिस्टम 5,000 किलोमीटर दूर से लॉन्च की गई किसी भी मिसाइल को बाधित करने में सक्षम है।

इस प्रणाली में प्रारंभिक चेतावनी और राडार पर नज़र रखने का एक अतिव्यापी नेटवर्क भी शामिल है, साथ ही कमांड और कंट्रोल पोस्ट भी शामिल हैं। PAD का परीक्षण नवंबर 2006 में किया गया था, इसके बाद दिसंबर 2007 में AAD ने किया। PAD मिसाइल के परीक्षण के साथ, भारत संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और इज़राइल के बाद सफलतापूर्वक एक बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली विकसित करने वाला चौथा देश बन गया।

1. Prithvi Air Defence (PAD)

  • ये एक Exo-atmospheric यानि की बाह्य वायुमंडलीय Anti-ballistic मिसाइल है ।
  • निर्माता – DRDO
  • परिचालन सीमा – 2000 किलोमीटर तक
  • स्पीड – मैक 5+
  • 80 किलोमीटर तक ऊपर जाने में सक्षम

2. Advanced Air Defence (AAD)

  • ये एक Endo-atmospheric यानि की अंतः वायुमंडलीय Anti-ballistic मिसाइल है ।
  • ये 30 किलोमीटर की ऊंचाई तक जा सकती है।
  • निर्माता – DRDO
  • वजन – 1200 KG
  • लंबाई – 7.5 मीटर
  • व्यास – 1.6 फीट  
  • स्पीड – 4 मैक+

इसके आलवे भी S-300 जैसी मिसाइल सिस्टम है और S-400 अभी आने वाली है ।

MANPADS (Man-portable air-defence systems)

ये अपेक्षाकृत छोटे मिसाइल सिस्टम है जिसे आसानी से एक जगह से दूसरे जगह ले जाया जा सकता है और इसे जमीन पर या कंधे पर रखकर लॉंच किया जाता है।

जैसे – SA-16 Gimlet

  • वजन – लगभग 11 KG
  • लंबाई – 1.57 मीटर
  • क्षमता – 1.1 KG वारहेड ले जा सकता है ।
  • परिचालन क्षमता – 5.2 किलोमीटर

इस प्रकार के कुछ और Manpads है- SA-7 Grail, SA-14 Gremlin और SA-18 Grouse ।

More Science and Tech Article

पसंद आया तो शेयर कीजिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *