संधि और समझौता अक्सर इस्तेमाल में आने वाला शब्द हैं, खासकर के इसके लिए इस्तेमाल किए जाने वाले इंग्लिश शब्द ‘treaty’ और ‘agreement’।

इस लेख में हम संधि और समझौता (treaty and agreement) पर सरल और सहज चर्चा करेंगे, एवं इसके बीच के अंतर को जानेंगे, तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें;

संधि और समझौता

| संधि और समझौता

◼️ संधि के लिए अगर इंग्लिश शब्द Treaty और Pact को देखें तो अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में इसका इस्तेमाल व्यापक तौर पर होता है। इन दोनों शब्दों का इतना इस्तेमाल हुआ है कि ये Treaty और Pact नाम से ही प्रचलित है, धीरे-धीरे संधि का भाव जैसे गौण होता चला गया है।

◼️ वहीं संधि के लिए कुछ और इंग्लिश शब्द जैसे की – Solder, Joint और Fusion को देखें तो इससे जुड़ने का भाव प्रकट होता है।

◼️ इसी प्रकार समझौते के लिए इंग्लिश शब्द देखें तो इसके लिए भी ढेरों शब्द इस्तेमाल किए जाते हैं। जैसे कि Settlement, Agreement, Compromise, Deal आदि।

यहाँ Compromise से एक प्रकार का त्याग का भाव प्रकट होता है, वहीं Deal से ऐसा लगता है जैसे खरीद-फरोख्त वाला मामला है,

इसी प्रकार Settlement को देखें तो ऐसा लगता है जैसे सारे मनमुटाव दूर कर लिए गए है और अब सब कुछ ठीक हो गया है।

Agreement की बात करें तो इससे सहमति का भाव आता है, और एक निश्चित व्यवस्था के तहत दोनों पक्ष आगे बढ्ने को तैयार है।

पर इन सभी शब्दों को देखें तो लगता है कि संबन्धित पक्ष सोच-समझकर किसी खास निर्णय पर पहुंचे है, और भविष्य में सामान्य स्थिति कायम बनाए रखना चाहते हैं।

कुछ चीज़ें यहाँ से क्लियर हो गया होगा, अब आगे इसके अन्य अंतरों की पड़ताल करते हैं।

| संधि क्या है?

◼️ जहां भी दो या दो से अधिक चीज़ें आकार मिलती है। उस जगह को संधि स्थल कहा जाता है। और जब चीज़ें आपस में जुड़ जाती है या मिल जाती है तब उसे संधि कहा जाता है।

अब हमारे शरीर को ही ले लीजिये, हमारे शरीर में कई ऐसे स्थान है जहां कई ओर से हड्डियाँ आकार मिलती है। वो जगह भी संधि कहलाती है। जैसे – केहुनी की संधि, घुटने की संधि आदि। 

◼️ एक युग की समाप्ति और दूसरे युग के आरंभ के बीच के समय को भी संधि कहा जाता है, इसे ही युगसंधि कहा गया है। और व्याकरण वाले संधि से तो आप सभी परिचित हैं ही, जब दो शब्द आपस में मिलते है। जैसे – जगत+ईश = जगदीश।

दोनों शब्दों का जुड़ना संधि और जब दोनों को अलग किया जाता है तो उसे संधि विच्छेद कहा जाता है।

◼️ दो राष्ट्रों के बीच जब युद्ध की समाप्ति पर आपसी दुश्मनी भुला कर भविष्य में शांति के साथ मित्र के रूप में रहने की जो प्रतिज्ञा ली जाती है। वो भी एक संधि होता है। इससे ये पता चलता है कि संधि एक संयोग होता है। वक़्त और हालात ऐसे बन जाते हैं कि संधि करना पड़ता है।

| समझौता क्या है?

◼️ समझौते की जहां तक बात है वो एक सोच समझकर लिया गया फैसला होता है। जैसे कि किसी लेन-देन या विवाद के निबटारे के लिया गया एक ऐसा निर्णय जिससे कि भविष्य में सभी कार्य निर्विघ्न और सुचारु रूप से चलते रहें, समझौता है।

इसे अँग्रेजी में कॉम्प्रोमाइज़ और फारसी में इकरारनामा या फिर क़रारनामा भी कहते है। अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों में इसके लिए अग्रीमेंट शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।

◼️ किसी को नुकसान पहुंचाने के लिए या दो या अधिक व्यक्तियों के बीच हुआ निश्चय भी समझौता है। समय-समय पर राजनैतिक दलों के बीच होनेवाला तालमेल भी समझौता है। 

| कुल मिलाकर संधि और समझौता में अंतर

समझौता मौखिक भी हो सकता है। लेकिन संधि लिखित होती है। यहाँ एक बात याद रखना जरूरी है जब समझौता के लिए कॉम्प्रोमाइज़ शब्द का इस्तेमाल किया जाता है तब तो वह समान्यतः मौखिक ही होता है, लेकिन जब समझौता के लिए अग्रीमेंट शब्द का इस्तेमाल किया जाता है तब अग्रीमेंट साइन किया जाता है यानी कि लिखित होता है।

संधि प्रायः युद्ध की समाप्ति पर होती है, लेकिन समझौता शांति काल में होता है। समझौते की अपेक्षा संधि की वैधानिक मान्यता अधिक होती है। 

◼️◼️◼️

संबंधित अन्य लेख

चेतावनी और धमकी में अंतर
साधारण और सामान्य में अंतर
अवस्था और आयु में अंतर
लॉकडाउन और कर्फ़्यू में अंतर
चिपकना और सटना में अंतर
समालोचना और समीक्षा में अंतर
अद्भुत और विचित्र में अंतर
विश्वास और भरोसा में अंतर
नाम और उपनाम में अंतर
ईर्ष्या और द्वेष में अंतर
हत्या और वध में मुख्य अंतर
ज्ञापन और अधिसूचना में अंतर 
शासन और प्रशासन में अंतर

FAQs

  1. संधि किसे कहते है?

    जहां भी दो या दो से अधिक चीज़ें आकार मिलती है। उस जगह को संधि स्थल कहा जाता है। और जब चीज़ें आपस में जुड़ जाती है या मिल जाती है तब उसे संधि कहा जाता है।
    संधि के लिए अगर इंग्लिश शब्द Treaty और Pact को देखें तो अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में इसका इस्तेमाल व्यापक तौर पर होता है।

  2. समझौता किसे कहते हैं?

    समझौते की जहां तक बात है वो एक सोच समझकर लिया गया फैसला होता है। जैसे कि किसी लेन-देन या विवाद के निबटारे के लिया गया एक ऐसा निर्णय जिससे कि भविष्य में सभी कार्य निर्विघ्न और सुचारु रूप से चलते रहें, समझौता है।
    इसे अँग्रेजी में कॉम्प्रोमाइज़ और फारसी में इकरारनामा या फिर क़रारनामा भी कहते है। अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों में इसके लिए अग्रीमेंट शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।