motivational stories in hindi

motivational stories

In this article we are going to read some motivational stories in hindi.

motivational stories

1.मेहनत की कमा

किसी शहर में एक प्रोफेसर साहब रहते थे। उनका बेटा बहुत आलसी था। उसे जब भी वे कोई काम कहते, तो उसके पास उस काम को न करने के कई बहाने होते

उसके इस आदत से वे परेशान थे। बेटा अब बड़ा हो चला था और पढ़ाई भी पूरी कर ली थी, पर उसकी आदत में कोई सुधार न था।

एक दिन प्रोफेसर साहब ने बेटे को बुलाया और गुस्से से कहा, तुम इतने बड़े हो गए, दिन भर घर में पड़े रहते हो, आज घर से निकलो, कुछ कमा कर ही घर आना, वरना तुम्हें आज खाना नहीं मिलेगा।

पिता की बात सुन कर दुखी मन से बेटा बाहर निकला और घर के बाहर ही पिता के काम पर जाने का इंतज़ार करने लगा। पिता के जाने के बाद वह घर आया और अपनी माँ को सारी बात कह रोने लगा।

माँ का कलेजा पसीज गया और उसने एक 100 रूपये बेटे को दे दी। शाम को पिता वापस घर आए, तो उन्होने बेटे से कमाई के बारे में पूछा।

बेटे ने वह 100 रूपये को पिता के सामने रख दिया। पिता समझ गए गए कि माँ  ने इसकी मदद की है। पिता ने बेटे से कहा ? इस पैसे को नाली में फेंक दो । बेटा पैसा नाली में फेंक आया।

अगले दिन प्रोफेसर साहब की पत्नी किसी काम से मायके चली गयी। उन्होने फिर बेटे को बुलाया और कहा – आज फिर कुछ कमा लाओ, बगैर कमाए लौटे तो खाना नहीं मिलेगा।

बेटा बाहर निकला और पिता के काम पर जाते ही घर आकर अपनी बहन से सारी बात बता कर रोने लगा, भाई को रोते देख बहन ने उसे 50 रुपये दे दिये ।

शाम को जब पिता आए,  तो बेटे ने वो 50 रुपये उनके सामने रख दिये। पिता समझ गए की आज बहन ने उसकी मदद कर दी। उन्होने कहा, इस रूपये को पास की नाली में फेंक आओ। बेटा उसे फेंक आया।

अगले दिन प्रोफेसर ने अपनी बेटी को उसकी सहेली के यहाँ भेज दिया और बेटे से कहा, आज भी तुम्हें कुछ कमा कर ही लौटना है।

बेटा बाहर निकला पर आज उसकी मदद करने वाला कोई नहीं था। थक हार कर वह एक जगह खड़ा हुआ, तो सामने सीमेंट का गोदाम था।

वह गोदाम में गया और मैनेजर से बोला, सर , क्या मुझे कोई काम मिलेगा? मैनेगर ने कहा, यदि तुम इन सीमेंट की बोरियों को उठा कर ट्रक पर डाल सकते हो, तो यह काम मैं तुमको दे सकता हूँ।

कोई अन्य चारा न देख लड़के ने बोरी उठानी शुरू कर दी। काम खत्म होने के बाद मिले 50 रुपये को ले कर वह घर पहुंचा। पिता लौटे, तो उसने वो 50 रुपये उनके सामने रख दिया।

पिता ने उन रुपयों को पास की नाली में फेंकने को कहा, तो बेटा आँखों में आँसू भर कर बोला, पिताजी, इन रुपयों को कमाने में मेरी कमर टूट गयी, कंधों में चोट आ गयी, पूरा शरीर दर्द कर रहा है और आप मुझे इन्हे नाली में फेंकने को कह रहे है।

पिता मुस्कुराए और बोले, बेटा, आज तुमने मेहनत से कमाए पैसे की कदर को समझ लिया, मैं तुम्हें यही अहसास करना चाहता था। यह कहकर पिता ने बेटे को गले से लगा लिया क्योंकि उस दिन उसने मेहनत की कमाई की कीमत को समझ चुका था। 

motivational stories

2.अपनी मदद खुद करें

किसी गाँव में एक पुजारी रहता था वो भगवान का बहुत बड़ा भक्त था । एक बार उसके गाँव में बाढ़ आई । गाँव के सभी लोग जरूरत का सामान लेकर ऊंचे स्थान की ओर जाने लगे

जाते-जाते लोगों ने पुजारी को भी चलने को कहा पर पुजारी ने कहा कि तुमलोग जाओ मुझे विश्वास है कि भगवान मेरी रक्षा करने जरूर आएगा  ।

पुजारी भगवान का इंतज़ार करने लगा । तभी एक जीप पुजारी के सामने आकर रुका । जीप में बैठे लोगों ने पुजारी को चलने को कहा पर पुजारी ने फिर वही जवाब दिया, तुम लोग जाओ मुझे तो भगवान बचाने आएगा ।

पानी बढ़ता ही जा रहा था । कुछ समय बाद एक नाव वाला पुजारी के पास आया और चलने को कहा पर पुजारी ने उससे भी वही बात कही ।

पानी अब कंधे तक आ गया था पर पुजारी को अब भी विश्वास था कि भगवान उसे बचाने जरूर आएगा । पानी और बढ्ने पर वो घर के छत पर चढ़ गया और भगवान का इंतज़ार करने लगा ।

थोड़ी देर में एक बचाव हेलिकॉप्टर आता है और ऊपर से रस्सी फेंकते हुए पुजारी को पकड़ लेने को कहता है; पर अब भी पुजारी वही बात दोहराता है कि तुमलोग जाओ मुझे तो भगवान बचाने आएगा पानी बढ़ता गया ।

आखिरकार पानी इतना बढ़ गया कि पुजारी उसमे डूब गया और मर गया ।

मरने के बाद जब वो भगवान के पास पहुंचा तो भगवान पर चिल्लाते हुए उसने कहा कि मैं आपका इतना बड़ा भक्त था ।

मुझे पूरा विश्वास था कि आप बचाने आएंगे । मैं इंतज़ार करता रहा पर आप नहीं आए, क्यो ?

भगवान ने कहा मैं तो तीन बार तुम्हें बचाने की कोशिश की पर तुम खुद ही बचना नहीं चाहता थे ।

पहली बार मैंने तुम्हारे लिए जीप भेजा तुम नहीं आए ।

दूसरी बार मैंने तुम्हारे लिए नाव भेजा पर तुम नहीं आए ।

तीसरी बार मैंने तुम्हारे लिए हेलिकॉप्टर पर फिर भी तुम नहीं आए ।  

भगवान भी उसी की मदद करता है जो अपनी मदद खुद करते हैं।

………………..

motivational stories in hindi

eBook Download

comment and subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *