motivational story in hindi for students pdf

In this article we are going to read short motivational story in hindi. Read and download pdf

Short motivational story in hindi

motivational story in hindi

नज़रिया

नजरिया किस तरह हमारी ज़िंदगी को प्रभावित करती है – आइये इस लघु-कथा से समझते हैं।

किसी समय गोलियथ नामक एक राक्षस ने एक गाँव मे खूब दहशत फैला रखा था। वो बहुत बड़ा था इसीलिए लोग उसके भय से थर-थर कांपते थे |

एक बार डेविड नाम का एक लड़का भेड़ चराते हुए उसी गाँव के पास से गुजर रहा रहा था,

तो उसने उस गाँव के लोगों से पूछा की आप लोग इस राक्षस को मारते क्यू नहीं हैं, उसका सामना क्यू नहीं करते है।

उन लोगों ने जवाब दिया की, “तुमने देखा नहीं की वो कितना बड़ा है, उसे मारा नहीं जा सकता है।”

डेविड ने कहा – बात यह नहीं है कि उसके बड़ा होने की वजह से उसे मारा नहीं जा सकता है; बल्कि हकीकत यह है की वह इतना बड़ा है की उस पर लगाया गया निशाना चूक ही नहीं सकता है।

उसके बाद डेविड और गाँव वालों ने मिलकर सिर्फ गुलेल से उसे मार दिया |

अब सोचने वाली बार यह है की राक्षस वही था पर उसके बारे मे डेविड का नजरिया अलग था।

motivational story in hindi

हौसलों की उड़ान

मुंबई के एक पार्क में एक लड़का उदास बैठा कुछ सोच रहा था। वो किसी बात को लेकर दुखी था।

बीच-बीच में वह रोने लगता और फिर कुछ सोचने लगता; तभी एक बुजुर्ग पास में आकर बैठा और उदासी का कारण पूछा।

लड़के ने बताया कि मैं बहुत परेशान हूँ। मैंने एक व्यवसाय किया, जिसमे मुझे 10 लाख रूपये का नुकसान हो गया।

अब मेरे ऊपर 10 लाख रूपये का बैंक कर्ज है, मेरा मकान गिरवी पड़ा है, मेरी बूढ़ी माँ बीमार है,

ऐसा लगता है कि दुनिया भर की परेशानी भगवान ने मुझे ही दे दी है। समझ में नहीं आता है कि मैं अब क्या करूँ।            

बुजुर्ग ने उसकी बातें ध्यान से सुनी। फिर उसने अपने बैग से एक चेक निकाला और बोला – चलो मैं तुम्हारी परेशानी दूर कर देता हूँ।

मेरा नाम जमशेदजी टाटा है और मैं भारत में सबसे धनवान व्यक्तियों में से हूँ। ये लो, मैं तुम्हें 10 लाख रूपये का चेक दे रहा हूँ।

तुम इससे अपनी परेशानी दूर कर लो और फिर पैसे कमाकर एक साल में मुझे वापस कर देना। मैं तुमको अब से ठीक एक साल बाद यही मिलुंगा और अपने पैसे ले लूँगा।

इतना कहकर वो बुजुर्ग वहाँ से चला गया ।

लड़का आवक रह गया। जैसे कि वह कोई सपना देख रहा हो। पल भर में उसकी सारी समस्याएँ दूर हो चुकी थी।

वह जमशेदजी के नाम से तो परिचित था, पर कभी देखा नहीं था। उसे तो विश्वास ही नहीं हो रहा था, कि कोई इतनी बड़ी रकम किसी अंजान व्यक्ति को कैसे दे सकता है।

उसने सोचा कि जब अंजान व्यक्ति मुझपर भरोसा कर सकता है तो मुझे खुद पर भरोसा क्यूँ नहीं है।

अब उसने निश्चय किया कि पहले वो चेक इस्तेमाल नहीं करेगा पहले वह अपना पूरा प्रयास पूरी ईमानदारी से करेगा और

यदि वह अपने पहले प्रयास में असफल रहा तभी वो उस चेक का इस्तेमाल करेगा। उसने चेक को अलमारी में सुरक्षित रख दिया और अपने काम में पूरी तन्मयता से लग गया |

अब उसके सर पर एक ही जुनून सवार था कि किसी तरह से एक साल के अंदर कर्ज को चुकाना है और खुद को अच्छी स्थिति में लाना है।

उसकी मेहनत रंग लायी। साल भर में वह न केवल अपने कर्ज को चुका दिया बल्कि अपनी आर्थिक स्थिति भी सुधार लिया ।

ठीक एक वर्ष बाद उसी तारीख को उसी चेक को लेकर वह पार्क पहुंचा और उस बुजुर्ग का इंतज़ार करने लगा। तभी वो बुजुर्ग आते दिखे।

लड़के ने बहुत सम्मान से अभिवादन किया और चेक बढ़ा कर कुछ कहना चाहा ही था कि तभी एक नर्स आयी और उस बुजुर्ग को पकड़ लिया और ले जाने लगा।

लड़के ने नर्स से पूछा कि क्या हुआ। नर्स ने कहा, यह एक पागल व्यक्ति है, दूसरों को अपना नाम जमशेदजी टाटा बताता रहता है और

खुद को देश का बड़ा उद्योगपति समझता है। बार-बार पगलखाने से भाग जाता है ।

यह सुनते ही लड़का आवक रह गया कि जिस चेक ने उसके सोये हुए आत्मविश्वास को जगाया और

जिसकी बदौलत उसने फिर से अपना कैरियर बना लिया और अपना पूरा कर्ज चुका लिया, वो चेक फर्जी था ।

…………………………………….

motivational story in hindi for students pdf

Click and read more motivational story in hindi

मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो करें, लिंक सबसे नीचे फूटर में है।

कमेंट जरूर करें और अपनी उपस्थिति इस साइट पर दर्ज करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *