इस लेख में हम प्रशासन और प्रबंधन (Administration and Management) पर सरल एवं सहज चर्चा करेंगे एवं इसके बीच कुछ सूक्ष्म अंतरों को जानेंगे, तो बेहतर समझ के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें;

इससे पहले हमने शासन और प्रशासन में अंतर को जाना है। तो अगर आपने अभी तक वो लेख नहीं पढ़ा तो उसे जरूर पढ़ लीजिये। और हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर लीजिये।

प्रशासन और प्रबंधन में अंतर
Read in EnglishYT1FBgYT2

प्रशासन के बारे में दो शब्द….

शासन या सत्ता के आदेशों या उसके द्वारा बनाए गए नियमों आदि को जमीन पर क्रियान्वित करने का काम प्रशासन करता है। जो लोग शासन में होते हैं वे अपेक्षाकृत संख्या बल में बहुत ही कम होते हैं, इतने कम कि जनता चाहे तो उसके बातों को मानने से इंकार कर सकता है। लेकिन ऐसा नहीं होता है क्योंकि शासक के पास ढेरों पेशेवर लोग होते हैं जिसे इसी काम के लिए रखा गया होता है कि विधियों का क्रियान्वयन सही तरीके से हो सके। जैसे कि पुलिस प्रशासन का एक उदाहरण लें तो, उसका काम होता है law and order को सुनिश्चित करना। और वे लोग इसके लिए सख्त रुख भी अख़्तियार कर लेते हैं। यानी कि प्रशासन में कठोरता निश्चित रूप से देखी जा सकती है।

कुल मिलाकर कहें तो, प्रशासन शासन का ही एक अंग है जिसका मुख्य मकसद कार्यों की व्यवस्था और नियमों का पालन कराना है। दूसरे शब्दों में कहें तो नागरिकों के अधिकारों और कर्तव्यों आदि को कार्य रूप में परिणत करना प्रशासन (Administration) है। 

प्रबंधन के बारे में दो शब्द….

प्रबंधन संगठनात्मक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कुशलतापूर्वक और प्रभावी ढंग से भौतिक, वित्तीय, मानव और सूचनात्मक संसाधनों के उपयोग में नियोजन, आयोजन, निर्देशन और नियंत्रण के कार्यों से संबंधित सिद्धांतों का एक समूह है।

दूसरे शब्दों में कहें तो, प्रबंधन किसी व्यवसाय के संसाधनों और गतिविधियों की योजना बनाने और व्यवस्थित करने की प्रक्रिया है ताकि विशिष्ट लक्ष्यों को सबसे प्रभावी और कुशल तरीके से प्राप्त किया जा सके।

एफ डब्ल्यू टेलर के अनुसार, ‘प्रबंधन यह जानने की एक कला है कि कब क्या करना है और यह देखना कि वह सबसे अच्छे और सस्ते तरीके से किया जाये।

हेरोल्ड कोन्ट्ज के अनुसार, ‘प्रबंधन औपचारिक रूप से संगठित समूहों में लोगों के माध्यम से और लोगों के साथ काम करने की एक कला है। यह एक ऐसा वातावरण बनाने की कला है जिसमें लोग बेहतरीन प्रदर्शन कर सकते हैं और व्यक्ति समूह के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए सहयोग कर सकते हैं।’

यहाँ से पढ़ें – भारत में आरक्षण [Reservation in India] [1/4]

प्रशासन और प्रबंधन में अंतर

आज ‘प्रशासन और प्रबंधन’ के बीच अंतर धुंधला हो रहा है, क्योंकि ये दोनों एक दूसरे से जुड़े हुए है और इसके कई पहलू एक से हैं। जैसे कि हम प्रशासन की परिभाषा में ये कहते हैं – ”प्रशासन संगठनों का प्रबंधन है (Administration is the management of organizations)”। वहीं हम प्रबंधन की परिभाषा में कहते हैं – “प्रबंधन एक संगठन का प्रशासन है (Management is the administration of an organization)”।

कहने का अर्थ ये है कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं कि प्रशासन में प्रबंधन न हो। क्योंकि प्रबंधन कम संसाधनों का उपयोग करके बेहतर परिणाम प्राप्त करने पर ध्यान केन्द्रित करता है। अंतर ढूँढने की कोशिश करें तो हम कह सकते हैं कि “प्रबंधन संगठन के भीतर लोगों और चीजों के प्रबंधन का एक व्यवस्थित तरीका है। जबकि प्रशासन उच्च स्तरीय गतिविधि है। जो लोगों के एक समूह द्वारा पूरे संगठन को संचालित करने का कार्य करता है।

प्रशासन, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है ये शासन से संबंध रखता है, इसमें शासन करने जैसा भाव होता है। इनके कार्यों में बस कानून और इस कानून को किसी भी तरह से लागू या क्रियान्वित करने का भाव प्रधान होता है।

▶ वहीं प्रबंधन जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है ये चीजों को प्रबंधित करने से संबंध रखता है। इसमें बहला-फुसलाकर, प्रेरित कर, बातचीत कर चीजों को करने का भाव होता है।

▶ सीधे शब्दों में कहें तो प्रबंधन को दूसरों से काम लेने के कौशल के रूप में समझा जा सकता है। इंग्लिश के मैनेजमेंट शब्द से तो ये और भी स्पष्ट हो जाता है। प्रबंधन को व्यावसायिक उद्यमों जैसे लाभकारी संगठन में देखा जा सकता है।

इसके विपरीत, प्रशासन सरकारी और सैन्य कार्यालयों, क्लबों, अस्पतालों, धार्मिक संगठनों और सभी गैर-लाभकारी उद्यमों में पाया जाता है।

 ▶ सबसे महत्वपूर्ण बिंदु जो प्रशासन से प्रबंधन को अलग करता है वह यह है कि प्रबंधन का संबंध संगठन के संचालन को निर्देशित करने से है, पॉलिसी को क्रियान्वित करने से है, जबकि प्रशासन, पॉलिसी बनाने एवं नीतियों को बिछाने और संगठन के उद्देश्यों को स्थापित करने पर जोर देता है।

यानी कि प्रशासन को आप किसी कंपनी एवं संस्था आदि का मालिक समझ सकते हैं जबकि प्रबंधन को आप उसी कंपनी एवं संस्था के लिए या उसे बेहतर बनाने के लिए काम कर रहे लोग समझ सकते हैं जिसका काम निर्धारित सीमा के अंदर, निर्धारित संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए बेहतर परिणाम प्राप्त करने की चेष्टा करना है।

उदाहरण के लिए, मैं wonderhindi का owner हूँ या Admin हूँ तो मैं अपेक्षित परिणाम प्राप्त करने के लिए नियम (policy) बना सकता हूँ जबकि मेरे लिए काम कर रहे लोग, उस सीमित बाउंड्री के अंदर, उसे पूरा करेंगे। और इसके लिए वे अपनी योग्यता, अपना कौशल एवं अपनी रचनात्मकता का इस्तेमाल करेंगे।

उम्मीद है आप प्रशासन और प्रबंधन के अंतर को समझ गए होंगे, नीचे कुछ अन्य बेहतरीन लेख दिये गए हैं उसे भी अवश्य पढ़ें और अपना ज्ञान वर्धन करें। सबसे नीचे आपको शेयर का बटन मिल जाएगा आप इसे शेयर जरूर करें और हमारे फ़ेसबुक पेज को लाइक कर लीजिये।

| संबन्धित अन्य लेख

जानने और समझने में अंतर होता है?
एथिक्स और नैतिकता में अंतर को समझिए
Attitude and Aptitude differences
अभिवृति और अभिक्षमता में अंतर
हंसी और दिल्लगी में अंतर क्या है?
बल और सामर्थ्य में अंतर क्या है?
आमंत्रण और निमंत्रण में अंतर क्या है?
संधि और समझौता में अंतर
र और मकान में मुख्य अंतर क्या है?
निवेदन और प्रार्थना में मुख्य अंतर
शंका और संदेह में मुख्य अंतर क्या है?
संस्था और संस्थान में मुख्य अंतर 
शिक्षा और विद्या में अंतर

FAQs

  1. प्रशासन किसे कहते है?

    प्रशासन, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है ये शासन से संबंध रखता है, इसमें शासन करने जैसा भाव होता है। इनके कार्यों में बस कानून और इस कानून को किसी भी तरह से लागू या क्रियान्वित करने का भाव प्रधान होता है।
    प्रशासन सरकारी और सैन्य कार्यालयों, क्लबों, अस्पतालों, धार्मिक संगठनों और सभी गैर-लाभकारी उद्यमों में पाया जाता है।

  2. प्रबंधन किसे कहते हैं?

    प्रबंधन जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है ये चीजों को प्रबंधित करने से संबंध रखता है। इसमें बहला-फुसलाकर, प्रेरित कर, बातचीत कर चीजों को करने का भाव होता है।
    सीधे शब्दों में कहें तो प्रबंधन को दूसरों से काम लेने के कौशल के रूप में समझा जा सकता है। इंग्लिश के मैनेजमेंट शब्द से तो ये और भी स्पष्ट हो जाता है। प्रबंधन को व्यावसायिक उद्यमों जैसे लाभकारी संगठन में देखा जा सकता है।