क्रिकेट के एक ओवर में छह गेंदे ही क्यूँ होते हैं?

इस लेख में हम सरल और सहज भाषा में बात करेंगे कि क्रिकेट के एक ओवर में छह गेंदे ही क्यों होते है? तो आइये जानते है।

क्रिकेट के एक ओवर में छह गेंदे ही क्यूँ होते हैं

क्रिकेट के एक ओवर में छह गेंदे ही क्यों?

अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में सन 1979-80 के बाद से ही सारी दुनिया में छह गेंदों के मानक ओवर का चलन शुरू हुआ था।

उसके पहले ऐसा कोई नियम था नहीं और न ही नियम बनाने वाली आईसीसी जैसी कोई संस्था, इसीलिए अलग-अलग समय और अलग-अलग देशों में चार, पाँच और आठ गेंदों के ओवर भी होते थे।

इंग्लैंड में 1889 तक चार गेंदों का एक ओवर होता था। उसके बाद 1899 तक पाँच गेंद का ओवर हो गया। इसके बाद 1900 में छह गेंदों के ओवर की शुरुआत हुई।

शुरुआती वर्षों में ऑस्ट्रेलिया में भी चार गेंद का ओवर  होता था। इसके बाद जब इंग्लैंड में छह गेंद का ओवर हुआ तो । वहाँ भी छह गेंद का ओवर हो गया।

लेकिन वर्ष 1922-23 के सीजन से ऑस्ट्रेलिया ने आठ गेंदों का एक ओवर करने का फैसला लिया। 

ऑस्ट्रेलिया की देखा-देखी इंग्लैंड ने भी सन 1939 में अपने घरेलू cricket में दो साल के लिए आठ गेंदों के ओवर का प्रयोग किया। पर उस समय द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हो गया।

विश्व युद्ध खत्म होने के बाद जब इंग्लैंड में नियमित रूप से क्रिकेट का सीजन शुरू हुआ तो छह गेंदों के ओवर की वापसी हो गयी।

बाँकी के देशों का क्या था हाल?

बात दक्षिण अफ्रीका की करें तो दक्षिण अफ्रीका में 1938-39 और फिर 1957-58 में आठ गेंद का ओवर चला। इसी तरह पाकिस्तान में 1974-75 और 1977-78 में आठ गेंद का ओवर रहा। 

क्रिकेटों के जानकारों का मानना है कि चार गेंदों का ओवर काफी छोटा लगा। उसे कुछ और बड़ा करने के प्रयास में यह संख्या आठ तक पहुँच गयी। पर 8 कुछ ज्यादा ही बड़ा हो गया तो सोचा कि न 8 और 4 अब होगा तो 6 ।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का संचालन इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल करती है, जिसकी स्थापना 1909 में इंग्लैंड , ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के प्रतिनिधियों ने मिलकर की थी।

उस समय इसका नाम इंपीरियल क्रिकेट कौन्फ्रेंस था। सन 1965 में इसका नाम इंटरनेशनल क्रिकेट कोन्फ्रेंस और 1989 में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल हो गया। 

क्रिकेट में भारत की स्थिति

भारत में सन 1792 में पहला क्रिकेट_क्लब बन गया था, पर उसे टेस्ट क्रिकेट का दर्जा सन 1932 में मिला जब उसने इंग्लैंड के साथ लॉर्ड्स में अपना पहला टेस्ट मैच खेला।

टेस्ट क्रिकेट का दर्जा पाने वाली भारतीय टीम दुनिया में छठी टीम थी। उसके पहले इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, वेस्टेंडीज़ और न्यूजीलैंड की टीमों को यह दर्जा प्राप्त था।

………..
मैं धारक को वचन देता हूँ, रूपये पर ये क्यों लिखा होता है।

पसंद आया तो शेयर कीजिये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *