Basics of share market in Hindi (शेयर मार्केट की बेसिक्स)

Basics of share market Part 1

इस लेख में हम हिन्दी में शेयर मार्केट के बेसिक्स (Basics of share market in hindi) पर सरल और सहज चर्चा करेंगे।
Basics of share market in hindi

ये लेख इस सिरीज़ का पार्ट 1 है। एक लेख में पूरे शेयर मार्केट को कवर करना बहुत ही मुश्किल है इसीलिए इसे कई भागों में बांटा गया है ताकि चीज़ें एक-दूसरे से पृथक भी रहें और पढ़ने एवं समझने में भी आसानी हो। उम्मीद है साइट पर उपलब्ध अन्य लेखों की तरह ये भी आपको आसानी से समझ में आ जाएगा। तो आइए इसे शुरू करते हैं।

Share market : Introduction

हम जिस समय-काल में जी रहें हैं शेयर मार्केट हमारे अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण भाग है। हमारे अर्थव्यवस्था का भाग है मतलब हमारी ज़िंदगी का एक भाग है।

यानी कि हम एक बाज़ार आधारित अर्थव्यवस्था में जी रहें है। हम इस बाज़ार में कभी निवेशक (Investor) होते हैं तो कभी ट्रेडर (Trader), कभी ऋणदाता (Lender) होते हैं तो कभी उधार लेने वाले (borrower) होते हैं।

कई बार हम अप्रत्यक्ष रूप से इससे जुड़े तो रहते हैं पर सही समझ के अभाव में सीधे तौर पर इससे बचने की कोशिश करते हैं।

शेयर (Share) के बारे में हमें इतना तो जरूर पता होता है की इसका मतलब अपने हिस्से के चीजों को दूसरों से बांटना होता है। जैसे कि हम अपना खाना शेयर करते हैं, अपनी फीलिंग्स शेयर करते हैं, अपनी कार शेयर करते हैं आदि।

कुल मिलाकर शेयर का मूल कॉन्सेप्ट यही है तो सवाल ये आता है कि फिर इसे समझना इतना मुश्किल क्यों होता है।

दरअसल समय के साथ-साथ अर्थव्यवस्था का विस्तार हुआ, बाज़ार हमारे ज़िंदगी का एक अहम हिस्सा बनने लगा, जितना चाहे उतना धन इकट्ठा करने की छूट मिली, ज्यादा से ज्यादा धन इकट्ठा करने के उद्देश्य से ज्यादा से ज्यादा लोग इस बाज़ार व्यवस्था में सक्रिय तौर पर भाग लेने लगे। इस तरह के विस्तार से नई-नई चीज़ें इसमें जुड़ते चले गए और व्यवस्थाएं आमलोगों के लिए जटिल होता चला गया। पर क्या ये वाकई जटिल है?

ऐसा नहीं है, अगर एक क्रमबद्ध तरीके से चीजों को समझा जाये तो फिर ये जटिल बिल्कुल भी नहीं है। तो जैसा कि शीर्षक से स्पष्ट है हम शेयर मार्केट के बेसिक्स को समझेंगे ताकि हमारा कॉन्सेप्ट इस संदर्भ में पूरी तरह से क्लियर हो जाये और हम इसका इस्तेमाल आम जीवन के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं में भी कर सकें।

Basics of share market chart

⬇️ हम किस तरह से इसे पढ़ने वाले हैं और क्या-क्या पढ़ने वाले हैं, इसे आप नीचे दिये गए चार्ट में देख सकते हैं।

basics of share market in hindi chart
Basics of share market in hindi

◼️ हम वित्तीय बाज़ार (Financial market) से शुरुआत करेंगे, क्योंकि देखें तो सब की जड़ यही है। अगर आपके मन में सवाल आ रहा है कि वित्तीय बाज़ार (Financial markets) से शुरू करने की क्या जरूरत है तो आपको बता दूँ कि अगर आपने इन चीजों का नाम सुना है जैसे कि –

  • पूंजी बाज़ार (Capital market)
  • मुद्रा बाज़ार (Money market)
  • कमोडिटी बाज़ार (Commodity market)
  • डेरिवेटिव्स बाज़ार (Derivatives market)
  • क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency)
  • स्पॉट मार्केट (Spot market) आदि। ये सब वित्तीय बाज़ार का हिस्सा है।

◼️ उसके बाद हम मुद्रा बाज़ार (Money market) और फिर पूंजी बाज़ार (Capital market) को समझेंगे।

शेयर मार्केट, पूंजी बाज़ार का ही एक हिस्सा है लेकिन उसे समझने से पहले हम प्रतिभूतियों (Securities) को समझेंगे। इसे इसलिए पहले समझेंगे क्योंकि बॉन्ड कि बात करें या फिर शेयर की ये भी एक प्रतिभूति है। ये सारे प्रतिभूतियाँ आमतौर पर स्टॉक एक्स्चेंज के माध्यम से बिकते हैं या यूं कहें कि इन प्रतिभूतियों की खरीद-बिक्री स्टॉक एक्स्चेंज के माध्यम से होती है इसीलिए इसके बाद स्टॉक एक्स्चेंज (Stock exchange) को समझेंगे।

इसके बाद हम दिलचस्प उदाहरणों के जरिये समझेंगे कि कंपनी कैसे बनती है फिर वो शेयर कैसे जारी करती है, एक निवेशक के रूप में हम कैसे शेयर खरीद सकते हैं, खरीदने से पहले क्या-क्या प्रक्रियाएं अपनायी जाती है? सब कुछ हम जानेंगे।

शेयर मार्केट को समझने के बाद हम म्यूचुअल फ़ंड, बीमा (Insurance), बॉन्ड मार्केट, डेरिवेटिव्स आदि जितने भी इससे संबद्ध अन्य विषय हैं; को भी पढ़ेंगे और समझेंगे।

सारे लेख क्रमबद्ध और व्यवस्थित तरीके से प्रेजेंट किया गया है, आप बस धैर्य बनाए रखिए और एक क्रम से पढ़िये। सभी लेख के थंबनेल (Thumbnail) पर क्रम संख्या अंकित है ताकि आपको क्रम ढूँढने में कोई परेशानी न हो।

◼️ जैसा कि हमने ऊपर चर्चा किया है, वित्तीय बाज़ार (Financial market) से हम इस सिरीज़ को शुरू करेंगे तो आइये इसे समझते हैं और शुरू करते हैं शेयर मार्केट के बेसिक्स (Basics of Share Market) की। नीचे क्लिक करें

Basics of share market in hindi
Download

⬇️Follow me on Social Media

हमारे अन्य बेहतरीन लेखों को भी पढ़ें

जानने और समझने में अंतर

जानना और समझना क्या होता है? आमतौर पर जानने और समझने का इस्तेमाल एक ही सेंस में कर दिया जाता है, तो क्या ऐसा नहीं करना चाहिए? या अगर करना चाहिए तो कितना। सब का जवाब आपको यहाँ पर तो मिलेगा ही साथ ही साथ आपको इसके कई आयाम भी जानने को मिलेंगे। पढ़िये इस दिलचस्प लेख को

क्षमता और योग्यता में अंतर क्या है

क्षमता और योग्यता को आमतौर पर एक ही तरह से ट्रीट किया जाता है, तो सवाल ये है कि जिसके पास क्षमता है क्या उसके पास योग्यता है या फिर जिसके पास योग्यता है उसके पास क्षमता भी है? इस तरह के ढेरों सवालों के जवाब इस लेख को आपको मिलेंगे वो भी कुछ दिलचस्प उदाहरणों के जरिये, तो आइये जानते है।

टिप्पणी जरूर करें, यहाँ बेहतरीन सुझावों का स्वागत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *